Sunday, 21 October 2018

Prime Minister dedicates National Police Memorial to the Nation: announces an award in the name of Subhas Chandra Bose

The Prime Minister, Shri Narendra Modi, dedicated the National Police Memorial to the nation, on Police Commemoration Day, today.

The Prime Minister announced an award in the name of Netaji Subhas Chandra Bose, to honour those involved in disaster response operations. The award would be announced every year, recognizing the bravery and courage displayed in saving lives of people, in the wake of a disaster.

Shri Narendra Modi, laid wreath and paid homage to the martyrs at the National Police Memorial. He honoured the three surviving members of Hot Springs incident. He also inaugurated the Museum of National Police memorial and signed the visitor’s book.

Speaking on the occasion, Prime Minister saluted the courage and sacrifice of police personnel who laid down their lives for the service of the nation. He recalled the sacrifices of the brave police personnel who fought valiantly at Hot Springs, Ladakh and paid respects to their family and loved ones.

Expressing happiness in dedicating the National Police Memorial, Prime Minister said that the Central Sculpture of the memorial represents capability, courage and service orientation of the police forces.He added that every object associated with the National Police Memorial would inspire the citizens and educate them about the bravery of police and para military personnel. He added that thepeace, security and prosperity presently enjoyed by the nation had been possible due to the sacrifices and consistent efforts of police,paramilitary and armed forces.

Prime Minister also evoked the contributions and sacrifices of National Disaster Response Forces and State Disaster Response Forces. He added that police and paramilitary forms the crux of Disaster Response forces and their contributions in dealing with disasters are immense.

Talking about the National Police Memorial, Prime Minister said that Memorial was accorded priority by the NDA Government and was finished on time. He said that the memorial underlines the vision of the Government to accord maximum respect to people who played a vital role in nation building.

Stressing on the importance of technology, Prime Minister urged the police forces to adopt technology and innovation in their daily discharge of duties. In this context, Prime Minister mentioned about the Modernization of Police Forces Scheme (MPF), which ismodernizing the police forces through technology, modern communication systems and modern weapons.

Prime Minister said that police forces have a big role to play in strengthening the bond between police and society. In this regard, Prime Minister urged the police forces to make Police Stations more citizen friendly.

The National Police Memorial consists of Central Sculpture, a Wall of Valour-engraved with the names of police personnel who laid down their lives in the line of duty and a State of Art Museum dedicated to the memory of the martyred police personnel.



****

Courtesy: pib.nic.in

Friday, 19 October 2018

Text of PM’s address at the Centenary year celebrations of Shri SaiBaba Samadhi


मंच पर विराजमान महाराष्‍ट्र के राज्‍यपाल श्रीमान विद्यासागर राव जी, महाराष्‍ट्र मुख्‍यमंत्री श्री देवेंद्र जी, विधानसभा के स्‍पीकर हरिबाबू जी, मंत्रिपरिषद के मेरे सहयोगी श्री सुभाष धामरे जी, साईबाबा संस्‍थान ट्रस्‍ट के चेयरमैन श्रीमान सुरेश हावरे जी, महाराष्‍ट्र के तमाम मंत्रीगण, सांसद के मेरे साथी, महाराष्‍ट्र के विधायकगण और यहां विशाल संख्‍या में पधारे हुए मेरे प्‍यारे भाईयो और बहनों आप सभी को पूरे महाराष्‍ट्र को, पूरे भारत वर्ष को, देश के जन-जन को दशहरे की विजयादशमी की बहुत-बहुत बधाई।

हम सभी का ये प्रयास रहता है। कि हर वर्ष पर्व को अपनों के साथ मनाएं। मेरी भी ये कोशिश रहती है कि हर त्‍यौहार देशवासियों के बीच जाकर के मनाऊं। इसी भावना के साथ आज आप सभी के बीच उपस्थित होने का मुझे सौभाग्‍य मिला है। जिस प्रकार आप सभी दशहरे के पावन अवसर पर भारी संख्‍या में यहां मुझे आशीर्वाद देने आए हैं। और मैं देख रहा हूं कहीं जगह ही नहीं बची, आधे लोग तो धूप में खड़े हैं। मैं आप सबका और आपका यही अपनत्‍व, यही मेरी सामर्थ्‍य है कि आपके इस प्‍यार के लिए, आपका ये प्‍यार निरंतर नई ऊर्जा का संचार करता है। मुझे शक्ति देता है।

साथियों, दशहरे के साथ-साथ हम आज शिरडी की इस पावन भूमि पर एक और पवित्र अवसर के साक्षी बन रहे हैं। साईंबाबा की समाधि के शताब्‍दी समारोह को भी आज संपन्‍न होने का, पूर्ण होने का, समापन का ये अवसर था। थोड़ी देर पहले ही मुझे साईंबाबा के दर्शन में, उनके आर्शीवाद प्राप्‍त करने का अवसर मिला। मैं जब भी पूज्‍य साईंबाबा का दर्शन करता हूं, उनका स्‍मरण करता हूं तो करोड़ों श्रद्धालुओं की तरह जैसे आप लोगों के दिल में भावना जगती है वैसी ही जनसेवा की भावना, और जनसेवा के लिए खुद को समर्पित करने का एक नया उत्‍साह इस भूमि पर से मिलता है।

भाईयो और बहनों शिरडी के कण-कण में साईं के मंत्र उनकी सीख है। जनसेवा, त्‍याग और तपस्‍या की जब बात आती है तो शिरडी का उदाहरण हर कोई प्रस्‍तुत करता है। ये हमारा शिरडी तात्‍या पाटिल जी की नगरी है, ये दादा कोते पाटिल जी की नगरी है। ये माधवराव देशपांडे, माल्‍सापति जैसे महापुरुष इसी धरती ने दिए हैं। काशीराम शिपि और अप्‍पा जागले साईंबाबा के अंतिम समय तक सेवा करते रहे। कोंडा जी, गवा जी और तुका राम को कौन भूल सकता है। इस पावन धरा के महान सपूतों को मैं नमन करता हूं। 

भाईयो और बहनों साईं का मंत्र है सबका मालिक एक है। सार्इं के चार शब्‍द जैसे समाज को एक करने का सूत्र वाक्‍य बन गए हैं। साईं समाज के थे और समाज साईं का था। साईं ने समाज की सेवा के कुछ रास्‍ते बताए थे और मुझे प्रसन्‍नता है कि साईंबाबा के दिखाए रास्‍ते पर श्री साईंबाबा संस्‍थान, ट्रस्‍ट निरंतर समाज की सेवा कर रहा है।

शिक्षा के माध्‍यम से समाज को सशक्‍त करना हो अध्‍यात्‍म के जरिए सोच में परिवर्तन करना हो। समाज में समरसता और सहभाव का संचार करना हो इसके लिए आपका प्रयास बहुत ही वंदनीय है।

आज भी इस धरती पर आस्‍था, अध्‍यात्‍म और विकास से जुड़े अनेक प्रोजेक्‍ट की शुरुआत हुई है। और मैं महाराष्‍ट्र सरकार को बधाई देता हूं। कि गरीबों के कल्‍याण की इतनी बड़ी योजना के लिए इससे बढ़कर के कोई जगह नहीं हो सकती। साईं के चरणों में बैठकर के गरीबों के लिए काम करना इससे बड़ी धन्‍यता क्‍या हो सकती है। और इसलिए महाराष्‍ट्र सरकार बधाई के पात्र हैं। दर्शनार्थियों के लिए बनने वाले नए परिसर के भूमिपूजन के मौके पर मौजूद होने पर मुझे प्रसन्‍नता हो रही है। आज ही के दिन साईंबाबा इंगलिश मीडियम स्‍कूल कन्‍या विद्यालय और कॉलेज की नींव रखी जा रही है। मुझे पूरा विश्‍वास है कि साईं के जीवन और दर्शन को लेकर शुरु होने वाले साईं नॉलेज पार्क से लोगों को साईं की सीख समझने में और आसानी होगी।

साथियों आज यहां दस मेगावॉट की एक सोलर यूनिट का भी काम शुरु हुआ है। इससे संस्‍थान के संसाधन बढ़ेंगे। और clean एनर्जी में संस्‍थान की बहुत भागीदारी होगी। एक प्रकार से साईं ट्रस्‍ट की तरफ से करोड़ो श्रद्धालुओं के लिए इस दशहरा को विजयादशमी का एक बहुत बड़ा तोहफा है।



साथियो, नवरात्र से लेकर दीपावली तक साल का ये वो समय होता है जब देशवासी घर, गाडी, गहनें जैसे अनेक सामान की खरीद करते हैं। जिसका जितना सामर्थ्‍य होता है वो उस हिसाब से पैसे बचाता है और अपने परिवार को उपहार देता है। मुझे खुशी है कि दशहरे के इस पावन अवसर पर मुझे महाराष्‍ट्र के ढाई लाख भाईयो और बहनों को अपना घर सौंपने का अवसर मिला है।



मेरे वो भाई-बहन जिनके लिए खुद का घर हमेशा ही सपना रहा है। अपने इस विशाल परिवार के सदस्‍यों को एक साथ गृह प्रवास कराने से इससे बड़ी अपने गरीब भाईयो और बहनों की सेवा मैं समझता हूं, दशहरे की पूजा भला मेरे लिए इस सेवा से बड़ी क्‍या हो सकती है। आप सभी जनों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बने इस नये घरों की, आपके जीवन में आए इस शुभ अवसर की, आप सभी को बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं। ये नए घर आपके अपने सपनों के प्रतीक तो है ही। आपकी आकांक्षाओं को नया आयाम देने वाले भी हैं। अब आपका जीवन, आपके बच्‍चों का जीवन सार्थक बदलाव के पथ पर आगे बढ़ चुका है। ये गरीबी पर जीत की तरफ का एक बहुत बड़ा पहला अहम कदम है।



साथियों, अपना घर जीवन को आसान बना देता है। और गरीबी से लड़ने का नया उत्‍साह पैदा करता है। एक सम्‍मान का भाव पैदा होता है। इसी को ध्‍यान में रखते हुए हमने सोचा है कि 2022, भारत की आजादी के 75 साल होंगे। देश के हर बेघर गरीब परिवार को उसका खुद का घर देने का लक्ष्‍य रखकर के हम काम कर रहे हैं।



मुझे खुशी है कि करीब-करीब आधा रास्‍ता हम इतने कम समय में पार कर चुके हैं। भाईयो और बहनों गरीब हो या मध्‍यम वर्ग का परिवार बीते चार वर्षों में उसे झुग्‍गी से, किराए के मकान से निकाल कर अपना घर देने की तरफ सरकार ने गंभीर प्रयास किए हैं। कोशिशें पहले भी हूईं है लेकिन दुर्भाग्‍य से उनका लक्ष्‍य गरीबों को घर देकर गरीबों को सशक्‍त करने की बजाय एक विशेष परिवार के नाम का प्रचार करना यही उनका मकसद था। वोट बैंक तैयार करना यही उनका मकसद था। घर अच्‍छा हो, उसमें शौचालय हो, बिजली हो, पानी हो, गैस का कनेक्‍शन हो। इस पर पहले कभी सोचा ही नहीं गया। जब किसी योजना के मूल में राजनीतिक स्‍वार्थ वो केंद्र में नहीं होता है। राजनीतिक स्‍वार्थ के बजाय सिर्फ और सिर्फ गरीब का कल्‍याण होता है तो उसके जीवन को आसान बनाने की प्रेरणा मिलती है। तब काम की गति कैसे बढ़ती है। ये आज देश के सामने जीता-जागता उदाहरण है।



साथियों, पहले जो सरकार थी, उस पिछली सरकार ने अपने आखिरी चार साल के वर्षों में पूरे देश में सिर्फ 25 लाख घर बनाए थे। चार साल में 25 लाख......, कितने ..... जरा बोलिए न क्‍या हुआ..... चार साल में कितने घर बनाए थे? चार साल में कितने घर बनाए थे? 25 लाख, जबकि बीते चार वर्षों में हमारी सरकार बनने के बाद भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्‍व वाली सरकार के केंद्र में आने के बाद 1 करोड़ 25 लाख घर बनाए हैं। उनके चार साल के 25 लाख और हमारे चार साल के 1 करोड़़ 25 लाख।



अगर वही सरकार होती तो इतने घर बनाने के लिए 20 साल लग जाते...20 साल और आपको भी 20 साल तक इस घर के लिए इंतजार करना पड़ता। तेज गति से काम करने वाली सरकार गरीबों को तेज गति से कैसे काम देती है इसका ये उदाहरण है। और आप देखिए सब कुछ तो वही है। वहीं साधन, वही संसाधन, वही लोग लेकिन साफ नीयत से, गरीब की सेवा के भाव से जब काम होता है तो ऐसे ही तेज गति से नतीजे भी मिलते हैं।



भाईयो और बहनों पहले की सरकार ने एक मकान बनाने में करीब-करीब 18 महीने लगते थे, डेढ़ साल लगता था इस सरकार में एक साल के अंदर-अंदर 12 महीने से भी कम समय में घर तैयार हो जाता है। समय तो कम हुआ ही है हमनें घर का आकार भी बढ़ाया है। इसके साथ-साथ घर बनाने के लिए सरकारी मदद को भी 70 हजार रुपये से बढ़ाकर के 1 लाख 20 हजार रुपये कर दिया गया है। सबसे अहम बात ये कि पैसे सीधे बैंक खाते में जमा हो रहे हैं। और लाभार्थियों का चयन वैज्ञानिक और पारदर्शी तरीके से हो रहा है। इतना ही नहीं ये घर टिकाऊ हो, उनमें शौचालय समेत सारी मूलभूत सुविधाएं हों। इसका भी विशेष ध्‍यान रखा जा रहा है।



मैं एक बार फिर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आज अपना घर प्राप्‍त करने वाले लोगों को ह्दय से बहुत-बहुत बधाई देता हूं। और मुझे जब आज कुछ परिवारों से अलग-अलग जिलों में बात करने का मौका मिला। उन बहनों का आत्‍मविश्‍वास इनके चेहरे की खुशी मुझे कितना आनंद देती थी आप कल्‍पना नहीं कर सकते। जब मेरा कोई गरीब परिवार उसके चेहरे पर खुशी दिखाई देती है तो जीवन काम करने का जैसे धन्‍य हो जाता है। नया काम करने की ऊर्जा मिल जाती है। आज इन सभी बहनों ने जो आर्शीवाद दिए मैं फिर एक बार उस संकल्‍प को दोहराता हूं कि आपकी सेवा के लिए हम पल-पल अपना जीवन आपके लिए खपाते रहेंगे।



भाईयो और बहनों देश के हर घर को शौचालय की सुविधा से जोड़ने का अभियान अब अंतिम पड़ाव पर है। महाराष्‍ट्र ने तो इस मामले में प्रशंसनीय कार्य किया है। आप सभी ने पूरे महाराष्‍ट्र ने खुद को खुले में शौच से मुक्‍त घोषित कर लिया है। इसके लिए राज्‍य के 11 करोड़ नागरिकों को भी मैं बहुत-बहुत बधाई देता हूं। इससे महाराष्‍ट्र के गांव और गलियां साफ-सुथरी तो रहेंगी ही साथ में डायरिया जैसी अनेक बीमारियों से गरीब किसान परिवारों के बच्‍चों का जीवन सुरक्षित रहेगा।



साथियों, जब गरीबों के जीवन और स्‍वास्‍थ्‍य की बात आती है। जो आजकल पूरी दुनियां में आयुषमान भारत यानी PMJAY प्रधानमंत्री जन आरोग्‍य योजना की बड़ी चर्चा हो रही है इसके तहत हर वर्ष देश के करीब 50 करोड़ नागरिकों को गंभीर बीमारी के स्थिति में मुफ्त इलाज सुनिश्चित किया गया है।



महाराष्‍ट्र के भी लाखों परिवारों तक इस योजना का लाभ पहुंच रहा है। अभी तो इसको शुरु हुए महीना भी नहीं हुआ है। लेकिन देश भर के अस्‍पतालों में करीब-करीब 1 लाख मरीज इसका लाभ ले चुके हैं। इस योजना की वजह से किसी गरीब की पथरी का मुफ्त इलाज हुआ है। तो किसी गरीब के ट्यूमर को हटाया गया है। किसी का 50 हजार का मेडिकल का बिल भरा गया तो किसी का तीन लाख का।



साथियों, इस योजना के तहत अब तक जो क्‍लेम दिया गया है वो औसतन प्रति व्‍यक्ति लगभग 20 हजार रुपये दिया गया है। अब आप सोचिए। हजारों की ये राशि उस गरीब को अपनी जेब से खर्च करनी पड़ रही थी। वो कर भी नहीं पाता था। इसी वजह से वो अस्‍पताल जाने से बचता था। अब सरकार उस गरीब के साथ खड़ी है। कि पैसे कि चिंता मत करिए। पहले अपना इलाज करवाइए।



साथियों, आयुषमान भारत योजना की वजह से देश में आधुनिक मेडिकल इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर का नया ढांचा तैयार हो रहा है। विशेषकर tier II, tier III शहरों में हजारों नए अस्‍पताल खुलने की संभावना बनी है। ये अस्‍पताल देश के नौजवानों के लिए रोजगार के लाखों नए अवसर भी लेकर कर आएंगे।

भाईयो और बहनों समाज का हर वर्ग, हर जन सुखी हों, सबका जीवन सरल और सुलभ हो इसी लक्ष्‍य के साथ सरकार काम कर रही हैं। मेरी जानकारी है कि राज्‍य के हिस्‍से हमारे महाराष्‍ट्र में वरुण देव की कृपा कुछ कम हुई है, बारिश कम हुई है। मैं आपको आशवस्‍त करता हूं कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत उसके माध्‍यम से आपको जल्‍द से जल्‍द राहत मिलेगी ही। इसके अतिरिक्‍त महाराष्‍ट्र सरकार जो कदम उठाएगी उसमें केंद्र भी कंधे से कंधा मिलाकर के पूरा सहयोग करेगी। 



भाईयो और बहनों पानी के इसी संकट से देश के किसानों को निकालने के लिए सरकार प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत बरसों से अटकी हुई परियोजनाओं को पूरा करने का काम कर रही है। इसके तहत महाराष्‍ट्र में भी अनेक बड़े प्रोजेक्‍ट पर काम चल रहा है। महाराष्‍ट्र सरकार ने भी अपने जलयुक्‍त शिविर अभियान के माध्‍यम से जलसंकट से निपटने का एक अभुतपूर्व प्रयास किया है। ये बहुत संतोष की बात है कि इस अभियान की वजह से राज्‍य के 16 हजार गांव सूखा मुक्‍त हो चुके हैं और करीब 9 हजार गांव को सूखा मुक्‍त करने का काम तेजी से चल रहा है।



मैं महाराष्‍ट्र के लोगों की इस बात के लिए भी प्रशंसा करुंगा कि उन्‍होंने सिंचाई टैंकों की सफाई Desiltation के अभियान को बहुत सफलता पूर्वक चलाया है। Irrigation टैंकों से 9 करोड़ क्‍यूबिक मीटर की silt निकालने का काम आसान नहीं है। लेकिन आप लोगों ने जन-भागीदारी से एक अभुतपूर्व काम करके पूरे देश को रास्‍ता दिखाया है। मुझे बताया गया है कि यही काम अगर किसी contractor को दे देते तो छ: सौ करोड़ से भी ज्‍यादा खर्च होता। लेकिन यही काम आपने अपने परिश्रम से कर दिखाया है।



साथियों अगर फसल अधिक भी हो और उसका उचित दाम भी मिले इसके लिए भी निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं। ये हमारी सरकार है जिसने एमएसपी को लेकर किसानों की बरसों पुरानी मांग को पूरा किया है। सरकार ने गन्‍ने समेत खरीफ और रबी की 21 फसलों को समर्थन मूल्‍य में लागत के ऊपर 50 प्रतिशत का लाभ तय किया है। इस ऐतिहासिक फैसले से इस साल देश के किसानों को हजारों करोड़ रुपयों के अतिरिक्‍त आय सुनिश्चित होगी।



साथियों, खेती के साथ-साथ सरकार टूरिज्‍म को भी बढ़ावा दे रही है। महाराष्‍ट्र में तो शिरडी जैसे आस्‍था से जुड़े बड़े स्‍थान भी, तो दूसरी तरफ अजंता एलोरा जैसे आर्कषक स्‍थान भी हैं। जहां दुनिया भर के टूरिस्‍ट खींचे चले आते हैं। आस्‍था, अध्‍यात्‍म और इतिहास को युवाओं के रोजगार से जोड़ने को एक बहुत बड़ा अभियान हमनें शुरु किया है। 



देश के टूरिस्‍ट सर्किट को आपस में जोड़ा जा रहा है। वहां सुविधाओं का निर्माण किया जा रहा है। यहां शिरडी में ही पिछली बार जब ये शताब्‍दी समारोह की शुरुआत करने हमारे मान्‍य राष्‍ट्रपति जी आए थे उन्‍होंने एयरपोर्ट का उपहार दिया था। मुझे कहा गया है कि यहां से अब जो फ्लाइट चल रही है उनमें आने वाले समय में और बढ़ोतरी की जाएगी। ताकि देश और दुनिया का हर साईं भक्‍त आसानी से यहां आकर के दर्शन कर सके।



भाईयो और बहनों महाराष्‍ट्र की धरती ने हमेशा सामाजिक समरसता का पाठ देश को पढ़ाया है। वीर शिवाजी हो, बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर हो या फिर पूज्‍य महात्‍मा ज्‍योतिबा फूले हो सबने उन मूल्‍यों की स्‍थापना की जो समता और एकता को सामाजिक शक्ति मानते हैं। आपने इन महान संत पुरुषों का सबक हमेशा याद रखना और स्‍वार्थ के लिए समाज में भेद करने वाली हर शक्ति, हर बुराई को हमनें पराजित करना है। तोड़ना आसान होता है जोड़ना बहुत मुश्किल होता है। हमें जोड़ने वाली शक्ति को सशक्‍त करना है तोड़ने वाली ताकतों को परास्‍त करना है। सबका साथ, स‍बका विकास और एक भारत श्रेष्‍ठ भारत का यही संकल्‍प इसी विजयदशमी को हमें लेना है। और इसलिए मैं आप सभी से आग्रह करुंगा कि हम सब इस संदेश को लेकर के आगे बढ़ें और इसी संदेश के रास्‍ते हमें आगे चलना है। साईंबाबा ने जो मार्ग दिखाया है उसी मार्ग पर हमें आगे चलना है। मुझे बहुत खुशी हूई।



साथियों, आज मैं इस पवित्र स्‍थान पर हूं शताब्‍दी समारोह का समापन कर रहा हूं। इस 31 अक्‍टूबर को राज्‍य में आप सभी की सरकार चार वर्ष पूरे करने वाली है। मैं देवेंद्र फडणवीस जी और उनकी पूरी टीम को अग्रिम बधाई देता हूं। आप यूं ही पूरी शक्ति से महाराष्‍ट्र वासियों की सेवा करते रहें। और आपको यहां के जन-जन का आशीर्वाद मिलता रहे। मेरी यही कामना है।



इसी विश्‍वास के साथ एक बार फिर उन सभी परिवारों को बहुत-बहुत बधाई जिनको आज दशहरे के दिन खुद का अपने मन का अपने सपनों का आज घर मिला है। ये नए घर आपके सपनों को पूरा करने का माध्‍यम बने, इन घरों में रहते हुए आप और आपका परिवार जीवन में और आगे बढ़़ें, तरक्‍की करे, आपके बच्‍चे सफलता की नई ऊंचाइयों पर पहुंचें। इसी कामना के साथ मैं अपनी बात समाप्‍त करता हूं और आप सबको इस पावन अवसर पर यहां बुलाने के लिए, इस सेवा का अवसर देने के लिए मैं श्री साईं ट्रस्‍ट का भी आभार व्‍यक्‍त करता हूं। आने वाला हर त्‍यौहार आप सभी के जीवन में खुशियां लेकर के आए। इसी शुभकामना के साथ आप सभी का बहुत-बहुत धन्‍यवाद।



धन्‍यवाद

Courtesy: pib.nic.in

PM visits Shirdi, Maharashtra; attends valedictory function of centenary celebration of Shri Sai baba; addresses gathering

The Prime Minister, Shri Narendra Modi, visited Shirdi, in Maharashtra, today.

At a public meeting, he unveiled the plaque to mark the laying of foundation stone of various development works of Shri Saibaba Sansthan Trust. He also released a silver coin to commemorate the Centenary year of Shri Saibaba Samadhi.

Shri Narendra Modi handed over keys to mark the Grihapravesh of Prime Minister Awas Yojana- Grameen (PMAY-G) beneficiaries in Maharashtra. He also interacted with beneficiaries from various districts in Maharashtra like Satara, Latur, Nandurbar, Amaravati, Thane, Solapur, Nagpur through video conference. The beneficiaries, mostly women, thanked the Prime Minister for their new good quality houses, easy availability of credit and corruption free processes associated with PMAY-G scheme. Prime Minister later addressed the gathering.

Speaking on the occasion, Prime Minister extended Dussehra greetings to all Indians. He said that being amongst people during the auspicious occasion of Dussehra gives him energy and renewed vigour to work for the betterment of the country.

Recalling the contributions of Shri Saibaba to the society, Prime Minister said that his teachings give us the mantra to build a strong unified society and to serve humanity with love. He added that Shirdi is always considered as an epitome of public service. He expressed happiness that Shri Saibaba Sansthan Trust is following the path laid down by Saibaba. He also complimented the contributions of the trust in empowering the society through education and in transforming thoughts through spiritual teachings.

Expressing happiness in handing over new houses to over 2 lakh beneficiaries under Pradhan Mantri Awas Yojana- Grameen (PMAY-G) on occasion of Dussehra, Prime Minister said that it is a big step towards the fight against poverty. Underlining the efforts of Government in ensuring ‘Housing for All’ by 2022, Prime Minister said that in the last four years, Government has built over 1.25 crore houses. He said that the Government is also ensuring that the every house built is not only of good quality but also has a toilet, gas connection and electricity.

Addressing the gathering, Prime Minister congratulated the people of Maharashtra for making the state Open Defecation Free. He also commended the efforts of the Maharashtra Government towards Swacchh Bharat activities. In this context, Prime Minister spoke about Pradhan Mantri Jan Arogya Yojana (PMJAY) and said that around one lakh people have benefited from the scheme so far. He added that under PMJAY, modern medical infrastructure is getting readied.

Prime Minister also underlined the efforts taken by the Government to deal with drought faced by Maharashtra. In this context, he mentioned Krishi Sinchai Yojana and Fazal Bima Yojana and appreciated the Jalyukt Shivir Abhiyan of Maharashtra Government. He also commended the people’s participation in the de-siltation of irrigation canals undertaken by the Maharashtra Government.

Remembering the teachings of B R Ambedkar, Jyotirao Phule and Chattrapati Shivaji, Prime Minister asked the countrymen to follow their noble ideals and teachings and work towards creating a strong undivided society. He urged the people to work towards attaining Sabka Saath, Sabka Vikas and Ek Bharat Shresht Bharat.

Earlier in the day, Prime Minister visited the Shri Saibaba Samadhi Temple Complex and offered prayers. He also attended the valedictory function of centenary celebration of Shri Saibaba.

***

Courtesy: Pib.nic.in

Thursday, 18 October 2018

Curtain Raiser: Indo-Japan Joint Exercise Dharma Guardian- 2018

To promote Military cooperation, India and Japan are all set to hold the first ever joint military exercise 'DHARMA GUARDIAN-2018' involving the Indian Army and Japan Ground Self Defence Force at Counter Insurgency Warfare School, Vairengte, India from 01 November to 14 November 2018. The Indian contingent will be represented by 6/1 GORKHA RIFLES while the Japanese contingent will be represented by 32 Infantry Regiment of the Japanese Ground Self Defence Force.

During the 14 day long exercise, due emphasis will be laid on increasing interoperability between forces from both countries. Both sides will jointly train, plan and execute a series of well developed tactical drills for neutralisation of likely threats that may be encountered in urban warfare scenario. Experts from both sides will also hold detailed discussions to share their expertise on varied operational aspects.

Exercise 'DHARMA GUARDIAN-2018' will be yet another step in deepening strategic ties including closer defence cooperation between the two countries. It will contribute immensely in developing mutual understanding and respect for each other's militaries and also facilitate tracking the worldwide phenomenon of terrorism. 

Courtesy: pib.nic.in

PM to visit Shirdi, Maharashtra on October 19

The Prime Minister, Shri Narendra Modi, will visit Shirdi, Maharashtra on October 19, 2018.

Prime Minister will unveil the plaque to mark the laying of foundation stone of various development works of Shri Saibaba Sansthan Trust. He will release a silver coin to commemorate Centenary year of Shri Saibaba Samadhi.

At a public function, Prime Minister Shri Narendra Modi will hand over the keys to mark the Grihapravesh of Prime Minister Awas Yojana- Grameen (PMAY-G) beneficiaries in Maharashtra. He will also address the gathering.

Prime Minister will also visit the Shri Saibaba Samadhi Temple Complex.

Courtesy: pib.nic.in

President of India Greets People on Durga Puja, Dussehra and Vijayadashmi

The President of India, Shri Ram Nath Kovind greeted people on the occasion of Durga Puja, Dussehra and Vijayadashmi.

In his message, the President said “On the auspicious occasion of Durga Puja and Vijayadashmi, I convey Shubho Bijoya as well as Dussehra greetings and best wishes to all my fellow citizens in India and abroad.

Durga Puja and Vijayadashmi symbolise the victory of truth and righteousness over evil. This is a day to share our happiness with the less-fortunate, the lonely and those in pain. It is also an opportunity to cherish the spirit of unity and bonds of fraternity among our people.

Let us celebrate Goddess Durga as the epitome of Shakti. May she guide us to work to empower women in society, especially girl-children. And let us celebrate Lord Rama as a reflection of the moral and eternal values that have guided our way of life since time immemorial."


Courtesy: pib.nic.in

Union HRD Minister releases the revised CBSE Affiliation Bye Laws to ensure speed, transparency, hassle-free procedures and ease of doing business with the CBSE

The Union Minister for Human Resource Development Shri Prakash Javadekar released the new CBSE Affiliation Bye-laws in New Delhi today. While interacting with media at Press conference the Minister informed that the affiliation byelaws of the Central Board of Secondary Education (CBSE) have been completely revamped to ensure speed, transparency, hassle-free procedures and ease of doing business with the CBSE.

The HRD Minister had earlier this year, directed the Board to completely revisit its affiliation bye laws to make the system more robust and quality driven. While highlighting the main changes, Shri Prakash Javadekar said that the new byelaws denote a major shift from the highly complex procedures followed earlier, to a simplified system based on preventing duplication of processes.

CBSE is a national level Board conducting examinations for Classes X and XII. It affiliates schools across India and abroad upon fulfilment of various conditions as prescribed in its Affiliation Bye Laws. At present 20783 schools are affiliated with the Board. The Affiliation Byelaws in position were first made in the year 1988 and were last modified in the year 2012.

Shri Javadekar informed that one of the salient features of the revised bye laws rests on the fact that there is duplication of processes at CBSE and state government level. For issuing recognition under RTE Act and NOC, the state education administration verifies various certificates to be obtained from local bodies, revenue department, cooperatives department, etc. The CBSE re-verifies them after applications are received. This is very long drawn process. Therefore, to prevent this duplication, schools will now be required to submit only two documents at the time of applying for affiliation, instead of 12-14 documents being submitted earlier: one would be a document vetted by the head of district education administration validating all aspects such as building safety, sanitation, land ownership, etc, and another would be a self-affidavit where the school would certify its adherence to fee norms, infrastructure norms, etc.

As a result of this major change the Board shall not revisit any of the aspects vetted by the state during inspection and the delay due to scrutiny and non-compliance of deficiencies in these documents shall be drastically curtailed. 

Inspection of schools will now be outcome-based and more academic and quality oriented, rather than focussing only on school infrastructure. The inspection will focus on academic excellence and progress of students over time, innovations and quality of pedagogy, capacity of teachers and teacher training, inclusive practises in school, quality of co-scholastic activities, whether curricular load is as per norms, whether there is adequate focus on sports and games, etc. This will not only help the Board and the school to track students’ progress over time, but will also identify areas that would need further efforts. 

The entire process from application, to inspection, to grant of affiliation was made paperless by the Board in March 2018. For the new byelaws too, the entire process will be online. Applications shall henceforth be disposed off in the same year.

In the new byelaws, the school inspection will be done as soon as applications are received. On satisfactory inspection report, the Board will issue a Letter of Intent to the school, indicating its intention to affiliate the school. The school will then be expected to fulfil all the conditions laid down under the Post-Affiliationprocess, such as recruitment of qualified teachers, special educator, wellness counsellor, salaries through digital payment, etc. On complying with all these conditions, the school will submit an online commencement certificate latest by 31st March of the given year, based on which, the Board shall confirm affiliation of the school. Only then the schools shall be able to start new academic session under CBSE.

The new affiliation bye laws also lay thrust on achieving academic excellence through mandatory teacher training. Even the Principals and Vice Principals of every school are expected to undergo two days mandatory training on an annual basis. A special category of innovative schools has been added to include specialized schools, not covered elsewhere in these byelaws, who are implementing innovative ideas in the fields of skill development, sports, arts, sciences, etc. Regarding fee, the provisions include full fee disclosure to be made and no hidden charges to be levied by schools in the garb of fees. The byelaws clearly state that fee is to be charged as per the regulation of the appropriate government and fee revision shall be subject to laws, regulations and directions of the appropriate government. Also, for the first time, the byelaws encourage schools to promote environmental conservation through harnessing solar energy, rain water harvesting, greening of campus, recycling and segregation of waste, Swachhata on campus, etc.

It may be mentioned here that CBSE has 20783 schools affiliated to it in India and 25 other countries, with over 1.9 crore students in these schools, and more than 10 lakh teachers. The revised bye laws will positively impact the existing and future schools by easing procedures and redirecting their focus towards improving the quality of education.

Courtesy: pib.nic.in

Prime Minister dedicates National Police Memorial to the Nation: announces an award in the name of Subhas Chandra Bose

The Prime Minister, Shri Narendra Modi, dedicated the National Police Memorial to the nation, on Police Commemoration Day, today. The Prime...