Thursday, 2 April 2020

India Watches DD, India Fights Corona

With the re-broadcast of its old iconic serials on DD National and DD Bharati during the lockdown, Doordarshan has again reinforced its position in the heart of Indians as the National Broadcaster. According to a recent report by Broadcast Audience Research Council India (BARC), Doordarshan has achieved its objective to help people keeping themselves at home, by broadcasting the old classics. According to BARC, the re-telecast of RAMAYAN, garnered the highest ever rating for a Hindi GEC show since 2015 when BARC started measuring TV audience.

In the wake of the countrywide lockdown for 21 days to deal with COVID-19 outbreak, the Public Service Broadcaster had decided to re-telecast the mythological serial of the 80s – ‘Ramayana’ and ‘Mahabharat’. While there had been a public demand for the re-telecast of these epics, the decision was taken with a view to provide engaging entertainment to the home-bound audience. Similarly based on the public demand, the pubcaster has also introduced some of its other famous serials like Shaktimaan, Shriman Shrimati, Chanakya, Dekh Bhai Dekh,Buniyaad,Circus and Byomkesh Bakshi on DD National and along with Mahabharat, it has also introduced Alif Laila, Upanishad Ganga on DD Bharati. 

After the re-telecast of both the epic serials started on Saturday, 28 March 2020 on DD National with two episodes of each epic every day, the pubcaster was flooded with accolades on Social Media including the high appreciation by a lot of celebrities. All the star casts of these iconic serials have started posting their own videos and comments praising the effort of Doordarshan and appealing to people to watch them again on Television. While ‘Ramayana’ is telecast twice at 9 am and 9 pmwithout any repeat on DD National everyday, ‘Mahabharat’ is also shown twice with fresh episodesat 12 pm and 7 pm on DD Bharati daily. The entertainment lineup in the afternoon on DD National starts with Circus at 3PM, Shriman Shrimati at 4PM, Buniyad at 5PM. Similarly the evening band on DD National starts with Dekh Bhai Dekh at 6PM followed by Shaktimaan at 8 PM and Ramayan at 9PM and ends the day with the famous serial Chanakya at 10PM. Doordarshan has also scheduled Alif Laila at 10.30 AM on DD Bharati, and Upanishad Ganga at 6PM on the same channel.

The significant increase in interest and potential viewership forDoordarshan content has enabled the Public Broadcaster of India to discharge its responsibility towards making the nationwide total lockdown successful as India stays home to fight the COVID19 pandemic.

Courtesy: pib.gov.in

Updates on COVID-19

Various actions have been initiated by Government of India along with the States/UTs for the prevention, containment and management of COVID-19 in the country. These are being regularly monitored at the highest level.

Hon’ble Prime Minister Shri Narendra Modi chaired a high level meeting with the Chief Ministers of States/UTs through video conference today. States were urged to manage the crisis at the district level and to focus on testing, isolation and quarantine facilities. States were also requested to upgrade the healthcare human resource, conduct online training of frontline workers along with increasing the strength of existing capacity through involvement of retired health workers from Government and private hospitals, NGOs, NSS & NSOs.

Hon’ble Prime Minister was apprised by the States that lockdown was being implemented with social distancing measures and enhanced surveillance, and they have been conducting rigorous contact tracing especially of migrant workers and international passengers. States also informed that they were ensuring that adequate welfare measures for psycho-social support and essential supplies are being ensured in the relief camps. States also reported on their progress regarding dedicated COVID-19 hospitals, ICU beds, quarantine facilities, ventilators & PPEs.

Under the orders of Hon’ble Supreme Court, States have been directed to take effective measures to fight fake news in order to prevent panic among people.

In addition, Guidelines for Dialysis of #COVID19 patients was issued by Ministry of Health & Family Welfare. It is available on the website- www.mohfw.gov.in. 

The Ministry of Health & Family Welfare with the help of National Institute of Mental Health and Neuro-Science (NIMHANS) has recommended general public measures to be taken on mental health for the elderly and children to deal with anxiety and stress due to the outbreak of COVID-19, which are available at www.mohfw.gov.in/. A psycho-social toll-free helpline number 08046110007 is also functional for any behavioral health related query.

As of now, 1965 confirmed cases and 50 deaths have been reported. During the last 24 hours, 328 new confirmed cases and 12 new deaths have been reported. 151 persons have been cured/discharged from the hospitals after recovery.

For all authentic & updated information on COVID-19 related technical issues, guidelines & advisories please regularly visit: https://www.mohfw.gov.in/.

Technical queries related to COVID-19 may be emailed at technicalquery.covid19@gov.in and other queries on ncov2019@gov.in .

In case of any queries on COVID-19, please call at Ministry of Health & Family Welfare helpline no. : +91-11-23978046 or 1075 (Toll-free). List of helpline numbers of States/UTs on COVID-19 is also available at https://www.mohfw.gov.in/pdf/coronvavirushelplinenumber.pdf .

Courtesy: pib.gov.in

FCI ensures uninterrupted food grain supplies across the country during the lockdown due to COVID-19 outbreak


58 rail rakes loaded today, total 410 rakes moved carrying about 11.48 LMT food grains since lockdown began on 24th March



Food Corporation of India (FCI) is ensuring uninterrupted supply of wheat and rice throughout the country during the lockdown period. FCI is fully prepared to meet not only the food grain requirement under National Food Security Act (NFSA) @5 KG/Month/Beneficiary but also any additional demand including supply of 5Kg/Person for next 3 months to 81.35 Crore people under PM Garib Kalyan Ann Yojana. As on 01.04.2020, FCI has 56.4 Million Metric Tonnes (MMT) of Food Grains (30.54 MMT Rice and 25.86 MMT Wheat).

Even in this challenging operational environment, FCI is able to meet the increasing demand of food grains by gearing up the pace of supply of wheat and rice throughout the country mostly by Rail. A total of 58 Rakes are being loaded today i.e. 02.04.2020 carrying about 1.62 Lakh Metric Tonnes (LMT) food grain stock. Since the day of lockdown i.e. 24.03.2020 FCI has moved 410 rakes carrying an approximate quantity of 11.48 LMT.

FCI is conducting e-auctions under Open Market Sales Scheme (OMSS) for providing Wheat to the empanelled Roller Flour Mills/State Government to ease the supply constraint in the market. In the last e-auction held on 31.03.2020, bids for 1.44 LMT wheat have been received.

In view of outbreak of COVID-19, apart from regular e-auction, District Magistrates/Collectors have been authorized to lift directly from FCI depots at OMSS reserve price to cater to the needs of Roller Flour Mills and other wheat product manufactures. Till now, 96736 MT Wheat has been allotted in the following states through this route:

Sr. No.
State
Quantity (in MT)
i
Uttar Pradesh
35675
ii
Bihar
23880
iii
Punjab
18344
iv
Himachal Pradesh
11500
v
Haryana
4700
vi
Goa
1100
vii
Uttarakhand
813
viii
Rajasthan
684
ix
Chhattisgarh
40

Further, e-auction for rice is also conducted. In the last e-auction on 31.03.2020, bids for 77000 MT rice have been received from the state of Telangana, Tamil Nadu, J&K etc.

In addition, considering the emergent situation, States have been allowed to take rice under OMSS @ Rs. 22.50/kg without participating in E-auction to meet any requirement over and above the NFSA allotment and additional allocation done under PM Garib Kalyan Yojana Allocation. So far, 93387 Metric Tonnes (MT) Rice has been allotted to the following 6 states as per their requests:

Sr. No.
State
Quantity (in MT)
i
Telangana
50000
ii
Assam
16160
iii
Meghalaya
11727
iv
Manipur
10000
v
Goa
4500
vi
Arunachal Pradesh
1000


Courtesy: pib.gov.in

Telephone Conversation between PM and the Federal Chancellor of Germany

Prime Minister Shri Narendra Modi had a telephone conversation today with Her Excellency Dr. Angela Merkel, Federal Chancellor of Germany. 

The two leaders discussed the ongoing COVID-19 pandemic, the situation in their respective countries, and the importance of international collaboration for fighting the health crisis. 

They shared views on the inadequate availability of medicines and medical equipment required during the pandemic, and agreed to explore avenues of cooperation in this regard. 

The German Chancellor agreed with Prime Minister that the COVID-19 pandemic is an important turning point in modern history, and offers an opportunity to forge a new vision of globalisation focused on the shared interests of humanity as a whole. 

Prime Minister informed Her Excellency the Chancellor about the recent Indian initiatives to disseminate simple yoga exercises and immunity-enhancing Ayurvedic remedies for people of the world. The Chancellor agreed that such practices could be very beneficial for enhancing psychological and physical health, especially under the present lockdown conditions.

Courtesy: pib.gov.in

आरोग्‍य सेतु: एक बहुआयामी सम्‍पर्क

सरकार ने कोविड-19 का दृढ़ता से मुकाबला करने के लिए भारत के लोगों को एकजुट करने के उद्देश्‍य से सार्वजनिक-निजी साझेदारी से विकसित एक मोबाइल ऐप की शुरुआत की है। ‘आरोग्‍यसेतु’ नाम का यह ऐप प्रत्‍येक भारतीय के स्वास्थ्य और कल्याण के लिए डिजिटल इंडिया से जुड़ा है। यह लोगों को कोरोना वायरस का संक्रमण पकड़ने के जोखिम का आकलन करने में सक्षम करेगा। यह अत्याधुनिक ब्लूटूथ टेक्‍नोलॉजी, तकनीक, गणित के सवालों को हल करने के नियमों की प्रणाली (अलगोरिथ्म) और कृत्रिम बुद्धिमत्ता का उपयोग करते हुए, दूसरों के साथ उनकी बातचीत के आधार पर इसकी गणना करेगा।

एक बार एक आसान और उपयोगकर्ता के अनुकूल प्रक्रिया के माध्यम से स्मार्टफोन में स्थापित होने के बाद, ऐप आरोग्‍यसेतु के साथ स्‍थापित अन्य उपकरणों का पता लगाएगा जो उस फोन के दायरे में आते हैं। एप्लिकेशन तब परिष्कृत मापदंडों के आधार पर संक्रमण के जोखिम की गणना कर सकता है यदि इनमें से किसी भी संपर्क का परीक्षण पॉजिटिव आता है।

ऐप कोविड-19 संक्रमण के प्रसार के जोखिम का आकलन करने और आवश्यक होने पर एकांतवास सुनिश्चित करने के लिए सरकार के समय पर कदम उठाने में मदद करेगा।

ऐप का डिज़ाइन सबसे पहले गोपनीयता सुनिश्चित करता है। ऐप द्वारा एकत्र किए गए व्यक्तिगत डेटा को अत्याधुनिक तकनीक का उपयोग करके एन्क्रिप्ट किया गया है और डेटा चिकित्सा सम्‍बन्‍धी सुविधा की आवश्‍यकता पड़ने तक फोन पर सुरक्षित रहता है।

11 भाषाओं में उपलब्ध, ऐप अखिल भारतीय स्‍तर पर पहले दिन से उपयोग के लिए तैयार है और इसकी बनावट ऐसी है जो अधिक काम का भार भी ले सकती है।

यह ऐप राष्ट्र की युवा प्रतिभा के एकजुट होने और संसाधनों की पूलिंग और वैश्विक संकट का जवाब देने के प्रयासों का एक अनूठा उदाहरण है। यह एक ही समय में सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों, डिजिटल प्रौद्योगिकी और स्वास्थ्य सेवाएं देने और युवा भारत की क्षमता और देश के रोग मुक्त और स्वस्थ भविष्य के बीच एक सम्‍पर्क है।

सौजन्य से: pib.gov.in

कोविड-19 के कारण लॉकडाउन के समय में आवश्यक वस्तुओं और अन्य सामान के परिवहन को पार्सल रेलगाड़ियां बड़ा बढ़ावा दे रही हैं

टाइम टेबल वाली पार्सल ट्रेनों के लिए 10 मार्गों की योजना बनाई गई है और आपूर्ति श्रंखलाओं को चालू रखने के लिए विशेष पार्सल ट्रेनों के लिए संभावित 18 नए मार्गों की योजना बनाई जा रही है

अब तक भारतीय रेलवे ने पूरे देश में विभिन्न स्थानों के लिए 30 विशेष पार्सल ट्रेनें लोड की हैं

भारतीय रेलवे ग्राहकों की मांग के अनुसार दुग्ध और खाद्य उत्पादों के लिए भी पार्सल ट्रेनें चला रहा है

राज्यों के भीतर कम दूरी की आवाजाही के लिए पार्सल ट्रेनों की राज्य सरकारों की मांगों को पूरा करने के लिए रेलवे ने कमर कस ली है

नागरिकों को आवश्यक वस्तुओं की कमी महसूस न हो यह सुनिश्चित करने के लिए कोविड-19 लॉकडाउन के दौर में सभी चुनौतियों का सामना करते हुए रेलवे स्टाफ इन ऑपरेशनों को पूरा कर रहा है
कोविड-19 के मद्देनजर लॉकडाउन के दौरान भारतीय रेलवे देश के नागरिकों की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए आवश्यक वस्तुओं और अन्य सामान के राष्ट्रव्यापी परिवहन के लिए पार्सल ट्रेनों की अपनी निर्बाध सेवाएं दे रहा है। भारतीय रेलवे पहले ही मालगाड़ियों के माध्यम से देश के विभिन्न हिस्सों में आवश्यक वस्तुओं की आवाजाही कर रहा है। जहां रेलवे द्वारा मालगाड़ियों का ये संचालन आवश्यक सामान जैसे कि खाद्यान्न, खाद्य तेल, नमक, चीनी, कोयला, सीमेंट, दूध, सब्जी और फल आदि के थोक परिवहन की जरूरतों को पूरा कर रहा है, वहीं पार्सल ट्रेनें ऐसी विभिन्न वस्तुओं का परिवहन कर रही हैं जिनकी आपूर्ति तुलनात्मक रूप से कम मात्रा में करने की आवश्यकता है।



अब तक भारतीय रेलवे ने पूरे देश में विभिन्न स्थानों पर 30 विशेष पार्सल ट्रेनों को लोड किया है, जिनका विवरण निम्नानुसार है:

क्र.सं.
प्रारंभ
गंतव्य
वस्तु
1.
पालनपुर (गुजरात)
पलवल (दिल्ली क्षेत्र)
दूध
2.
जलगांव
न्यू गुवाहाटी
विविध वस्तुएं
3.
न्यू तिनसुकिया
गोधानी (नागपुर)
विविध वस्तुएं
4.
करमबेली (गुजरात)
न्यू गुवाहाटी
आम सामान
5.
दहानू रोड (पालघर)
बड़ी ब्राह्मण (जम्मू)
सूखी घास
6.
कांकरिया (अहमदाबाद)
भीमसेन (कानपुर)
दुग्ध उत्पाद
7.
पालनपुर (गुजरात)
पलवल (दिल्ली क्षेत्र)
दूध
8.
न्यू गुवाहाटी
करमबेली (गुजरात)
विविध उत्पाद
9.
पालनपुर (गुजरात)
पलवल (दिल्ली क्षेत्र)
दूध
10.
रेनिगुंटा
निज़ामुद्दीन
दूध
11.
पालनपुर (गुजरात)
पलवल (दिल्ली क्षेत्र)
दूध
12.
पालनपुर (गुजरात)
पलवल (दिल्ली क्षेत्र)
दूध
13.
सलेम
बठिंडा
कृषि बीज
14.
मोगा
छंगसारी (गुवाहाटी)
दुग्ध उत्पाद
15.
कांकरिया (अहमदाबाद)
सांकराइल (हावड़ा)
दुग्ध उत्पाद
16.
दहानू रोड (पालघर)
बड़ी ब्राह्मण (जम्मू)
सूखी घास
17.
भोपाल
ग्वालियर
फल
18.
गोधानी (नागपुर)
न्यू तिनसुकिया
विविध उत्पाद
19.
नंगल डैम
छंगसारी (गुवाहाटी)
एफएमसीजी उत्पाद
20.
चेन्नई
नई दिल्ली
विविध उत्पाद
21.
यशवंतपुर
हावड़ा
विविध उत्पाद
22.
बांद्रा टर्मिनस
लुधियाना
मेडिकल सामान/मास्क
23.
रीवा
अनूपपुर
विविध उत्पाद
24.
भोपाल
खंडवा
विविध उत्पाद
25.
इटारसी
बीना
विविध उत्पाद
26.
चेन्नई इग्मोर
नागरकोइल
दवाएं और किताबें
27.
सलेम
हिसार
कृषि बीज
28.
नई दिल्ली
हावड़ा
विविध सामान
29.
करमबेली (गुजरात)
छंगसारी (गुवाहाटी)
विविध सामान
30.
पालनपुर (गुजरात)
पलवल (दिल्ली क्षेत्र)
दूध


इन संचालनों को पूरा करने वाले कर्मचारी कोविड-19 में कई चुनौतियों का सामना कर रहे हैं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि देश के नागरिकों को किसी भी आवश्यक सामान की कमी महसूस न हो।



अपने कर्मचारियों के उत्कृष्ट प्रदर्शन से उत्साहित होकर, मंडल रेलवे ने अब 31 मार्च, 2020 से समय सारणी वाली पार्सल ट्रेनें चलानी शुरू कर दी हैं। इन समय सारणी वाली रेलगाड़ियों के मार्ग निम्नानुसार हैं:

क्र.सं.
प्रारंभ
गंतव्य
आवृत्ति / मार्ग
1.
बांद्रा टर्मिनस
लुधियाना
हफ्ते में तीन बार (वाया अहमदाबाद, जयपुर, दिल्ली)
2.
दिल्ली
हावड़ा
हफ्ते में तीन बार
3.
यशवंतपुर
हावड़ा
हफ्ते में तीन बार (वाया चेन्नई)
4.
सिकंदराबाद
हावड़ा
साप्ताहिक
5.
सांकराइल
गुवाहाटी
साप्ताहिक
6.
चेन्नई
दिल्ली
साप्ताहिक
7.
कांकरिया (अहमदाबाद)
सांकराइल (हावड़ा)
साप्ताहिक
8.
कल्याण
सांकराइल (हावड़ा)
साप्ताहिक (वाया नासिक, नागपुर, बिलासपुर)
9.
कल्याण
छंगसारी
साप्ताहिक (वाया नासिक, नागपुर, बिलासपुर)
10.
करमबेली
छंगसारी
साप्ताहिक



कोविड-19 से लड़ने के लिए लॉकडाउन के समय में देश भर में महत्वपूर्ण वस्तुओं और सामान की त्वरित आपूर्ति और उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए भारतीय रेलवे अन्य क्षेत्रों के लिए भी मार्गों की पहचान कर रहा है। मांग के अनुसार भी विशेष पार्सल ट्रेनों की योजना बनाई जा सकती है। मंडलीय रेलवे के द्वारा महत्वपूर्ण गलियारों को जोड़ने के लिए विशेष पार्सल ट्रेनों की पहचान की गई है:


नई दिल्ली - गुवाहाटी
नई दिल्ली - मुंबई सेंट्रल
नई दिल्ली - कल्याण
चंडीगढ़ - जयपुर
मोगा - छंगसारी
कल्याण - नई दिल्ली
नासिक - नई दिल्ली
कल्याण - संतरागाछी
कल्याण - छंगसारी
कोयंबटूर - पटेल नगर (दिल्ली क्षेत्र)
पटेल नगर (दिल्ली क्षेत्र) - कोयंबटूर
कोयंबटूर - राजकोट
राजकोट- कोयंबटूर
कोयंबटूर - जयपुर
जयपुर- कोयंबटूर
सलेम - बठिंडा
कांकरिया - लुधियाना
सांकराइल - बेंगलुरु
मांग के अनुसार कोई अन्य मार्ग।

भारतीय रेलवे इस अवधि के दौरान ग्राहकों की मांग के अनुसार अन्य पार्सल ट्रेनें भी चला रहा है जिनमें निम्नलिखित शामिल हैं:

पालनपुर (गुजरात) से पलवल (दिल्ली के पास) और रेनिगुंटा (एपी) से दिल्ली तक) 'मिल्क स्पेशल’।
कांकरिया (गुजरात) से कानपुर (यूपी) और सांकराइल (कोलकाता के पास) तक दुग्ध उत्पाद।
मोगा (पंजाब) से छंगसारी (असम) तक खाद्य उत्पादों के लिए।

राज्य के भीतर कम दूरी की परिवहन आवश्यकता की पहचान करने के लिए मंडल रेलवे राज्य सरकारों के साथ संपर्क कर रहे हैं और समन्वय कर रहे हैं। मध्य प्रदेश राज्य सरकार के अनुरोध पर पश्चिम मध्य रेलवे ने निम्नलिखित मार्गों पर मध्य प्रदेश के भीतर 5 पार्सल स्पेशल रेलगाड़ियां चलाने की पहल की है:


भोपाल - ग्वालियर
इटरासी - बीना
भोपाल - खंडवा
रीवा - अनूपपुर
रीवा - सिंगरौली

यह ध्यान देने की बात है कि भारतीय रेलवे की विशेष पार्सल सेवाएं समय सारणी के अनुसार चल रही हैं।

ये समय सारणी वाली रेलगाड़ियां पूर्व निर्धारित अनुसूचित ठहराव पर रुक रही हैं। इनमें से किसी भी स्टेशन से लेकर, कहीं तक के परिवहन के लिए किसी भी वस्तु को किसी भी मात्रा में बुक किया जा सकता है। भंडार के समय पर वितरण के लिए वस्तुओं को एक कुशल तरीके से स्थानांतरित करने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं।

स्थानीय उद्योग, ई-कॉमर्स कंपनियां, कोई भी इच्छुक समूह, संगठन, व्यक्ति और भावी लोडर, मंडल स्तर पर रेलवे के अधिकारियों से भी संपर्क कर सकते हैं। विभिन्न स्टेशनों पर रेलवे अधिकारियों के संपर्क विवरण भी वितरित किए गए हैं और उपलब्ध कराए गए हैं ताकि कोई भी व्यक्ति पार्सल लोड करवाने के लिए संपर्क कर सके। मंडल रेलवे विज्ञापन सहित संचार के विभिन्न तरीकों के माध्यम से संभावित ग्राहकों तक पहुंच रहे हैं।

सौजन्य से: pib.gov.in

India Watches DD, India Fights Corona

With the re-broadcast of its old iconic serials on DD National and DD Bharati during the lockdown, Doordarshan has again reinforced its po...